सुख-दुख

ऐ   “सुख”  तू  कहाँ   मिलता    है क्या   तेरा   कोई   पक्का   पता  है क्यों   बन   बैठा   है    अन्जाना आखिर   क्या   है   तेरा   ठिकाना ।…