हृदय की बीमारी आयुर्वेदिक इलाज (महाऋषि वागवट जी)

हमारे देश भारत मे 3000 साल पहले एक बहुत बड़े ऋषि हुये थे, उनका नाम था महाऋषि वागवट जी !! उन्होने एक पुस्तक लिखी थी,…

विक्रम साराभाई

1970 के समय तिरुवनंतपुरम में समुद्र के पास एक बुजुर्ग भगवद्गीता पढ़ रहे थे तभी एक नास्तिक और होनहार नौजवान उनके पास आकर बैठा। उसने…

रिश्ता – द्वारा मुन्सी प्रेमचंद जी

मुन्सी प्रेमचंद जी की एक सुंदर कविता ख्वाहिश नहीं मुझे मशहूर होने की,         आप मुझे पेहचानते हो        …